Rahat indori shayari collection in hindi. Rahat Indori Archives 2019-04-09

Rahat indori shayari collection in hindi Rating: 9,9/10 1430 reviews

rahat indori shayari collection

rahat indori shayari collection in hindi

Mere jhoote gilaason ki chhakaa kar, behakton ko sambhaala ja raha hai. Rahat Indori is one of the most eminent poet, shayar and Hindi film lyricist of our time. Rahat Indori Shayri आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो, ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो, एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो, दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो। Rahat Indori Shayri Ajeeb Log Hain Meri Talash Mein Mujhko, Wahan Par Dhoondh Rahe Hain Jahan Nahi Hun Main, Main Aayino Se Toh Mayoos Laut Aaya Hun, Magar Kisi Ne Bataya Bahut Haseen Hun Main. मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया, इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए। Rahat Indori Shayri In Hindi Bahut Guroor Hai Dariya Ko Apne Hone Par, Jo Meri Pyaas Se Uljhe Toh Dhajjiyan Ud Jayein. Rahat Indori is a popular poet and film lyricist. फलसफा समझो न असरारे समझो, जिन्दगी सिर्फ हकीक़त है हकीक़त समझो, जाने किस दिन हो हवायें भी नीलाम यहाँ, आज तो साँस भी लेते हो ग़नीमत समझो। Hindi Shayari Jo Teer Bhi Aata Woh Khaali Nahi Jata, Mayoos Mere Dil Se Sawali Nahi Jata, Kaante Hi Kiya Karte Hain Phoolo Ki Hifazat, Phoolo Ko Bachane Koi Maali Nahi Aata. कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी, चंद सिक्कों की खातिर तूने क्या नहीं खोया है, माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास, पर तू ये बता कितनी रातें चैन से सोया है। Humara Zikr Bhi Ab Jurm Ho Gaya Hai Wahan, Dino Ki Baat Hai Mefil Ki Aabru Hum The, Khayal Tha Ke Yeh Pathrav Rok Dein Chal Kar, Jo Hosh Aaya Toh Dekha Lahu Lahu Hum The.

Next

Rahat Indori Shayari in Hindi

rahat indori shayari collection in hindi

तुफ्हानों से आँख मिलाओ सैलाबों पर वर करो मल्लाहों का चक्कर छोड़ो तहर के दरिया पार करो तुमको तुम्हारा फ़र्ज़ मुबारक हमको मुबारक अपना सुलूक हम फूलों की शाकें तराशें तुम चाक़ू पर धार करो फूलों की दुकाने खोलों खुशबु का व्यापार करो इश्क खता है तो ये खता एक बार नहीं सौ बार करो Rahat indori Shayari अगर खिलाफ है होने दो जान थोड़ी है ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है लगेगी आग तो आएँगे घर कई जद में यहाँ पे सिर्फ हमारा मकान थोड़ी है हमारे मुह से जो निकले वही सदाकत है हमारे मुह में तुम्हारी जबां थोड़ी है में जानत हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन हमारी तरह हथेली पे जान थोड़ी है जो आज साहिब-ए- मनसद है कल नहीं होंगे किरायेदार है जाती मकान थोड़ी है सभी का खून है यहाँ की मिटटी में किसी के बाप का हिन्दुस्तान थोड़ी है Rahat Indori Ghazals log har mod par rukh rukh ke sabhalte q hai itna darte hai to ghar se nikalte q hai mein na jugnu ho na koi tara ho ye raushni wale mere naam se itna jalte q hai sawal wo puch rahe hai udaas hone ka mera mizaaj nahi be libaas hone ka naya bahana hai har pal udaas hone ka ye faida hai tere ghar k paas hone ka Rahat indori Poerty ab mein na hun na baaki hai zamane mere phir bhi mash hur hai shayairon mein fasane mere zindagi hai to naya zakham bhi jayega abhi aur baaki hai kahi dost purane mere haath khali hai tere shehar jate jate jaan hoti meri jaan lutate jate jate ab to har patthar mujhe janta hai ke umar gujardi hai tere shahar mein aate jate abhi is taraf na nigah kar mein gajal ki palkein sawaar lo meri lafz lafz me ho aayina tujhe aaiyne me utaar lo Rahat Indori Shayari Wallpaper Also Read : mein jis ki khatir mohabbaton ki har ek had se gujar gaya wo ab bhi mujh se ye puchta hai ke such batao wafa kroge teri har baat mohabbat me gawara kr ke dil ke bazaar me baithe hai kinara kr ke mein wo dariya hun ki har boond bhawanr hai jiski tumne sahi mujhe se kinara kr ke Rahat Indori Shayari Image jaban to khol najar to mila jawab to de mein kitna baar luta hun hisaab to de tere badan ki likhawat mein hai utaar chadhao mein tujh ko kaise padhunga mujhe koi kitaab to de faisle lamhaat k nashlon pe bhari ho gaye baap hakim tha par bete bikhari ho gaye gulaab khuwaab dawa zehar jaam kiya kiya hai mein aa gaya hu bata intezaam kiya kiya hai fakir shaah kalandar imaam kiya kiya hai tujhe pata nahi tera gulaam kiya kiya hai Rahat Indori Sher rahat indori shayari on dosti saari fitrat to naqabon mein chupa rakhi thi sirf tasveer uzaale mein laga rakhi thi meri gardan pe talwar thi duhsman ki meri bajuwon pe meri maa ki duwayen rakhi thi yahan imaam likhte hai yahan imaan padthe hain humein kuch aur na padhao hum quraan padhte hain Rahat Indori Kavita hausle zindagi k dekhate hai chaliye kuch roz jee ke dikhate hai neend pichhli sadi ke zakhami hai khuwaab agli sadi ke dikhate hai to jo chahe to tera jhut bhi bik sakta hai shart itni hai ki sone ka tarazu rakh le jab garz huwa tab pyar kiya jab waqt mila tab yaad kiya ab aur kiya hakikat likhon is daur ke logo ne kiya kya Rahat Indori Motivational Shayari irada tha k mein kuch der tufhano ka maza leta magar be chare darriya ko utar jane ki jadi thi maine apni aankhon se lahu chalka diya ek samundar kahe raha hai mujhe paani chahiye. शायरी हमेशा से भारत की शान रही है , भारतीय हमेशा से अपने शब्दों के जोहर से विश्व पर छाया रहा है , कभी मिर्ज़ा ग़ालिब , गुलज़ार , राहत इंदोरी जैसे महान शायर ने हमेशा से भारत का सम्मान और बढ़ाया है , राहत इंदोरी उन महान शायर में है जिनकी शायरी हमेशा से आकर्षण का केंद्र रही है , पेश है राहत इन्दौरी जी की प्रशिद्ध शायरी. Suraj Ne Apni Shakl Bhi Dekhi Thi Pehli Baar, Aaine Ko Maze Bhi Taqaabul Ke Aa Gaye. आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर, लोग लेते हैं मजा ज़िक्र तुम्हारा कर के।. Na haar apni na apni jeet hogi, magar sikka uchhaala ja raha hai. ~ Rahat Indori ab mein na hun na baaki hai zamane mere ab mein na hun na baaki hai zamane mere phir bhi mash hur hai shayairon mein fasane mere zindagi hai to naya zakham bhi jayega abhi aur baaki hai kahi dost purane mere haath khali hai tere shehar jate jate jaan hoti meri jaan lutate jate jate ab to har patthar mujhe janta hai ke umar gujardi hai tere shahar mein aate jate मज़ा चखा के ही माना हूँ मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे Maza Chakha Ke Hi Maana Huun Main Bhi Duniya Ko Samajh Rahi Thi Ki Aise Hi Chhoḍ Dunga Use Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere, Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere, Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge, Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere. Rahat Indori Shayari available in Hindi, Urdu and Roman language.

Next

RAHAT INDORI SHAYARI IN HINDI AND ENGLISH 1.1 APK

rahat indori shayari collection in hindi

. Rahat Indori is an eminent and talented Urdu language poet. अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको, वहाँ पर ढूंढ रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं, मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था, मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं। Ajnabi Khwahishein Seene Mein Daba Bhi Na Sakun, Aise Ziddi Hain Parinde Ke Uda Bhi Na Sakun, Foonk Dalunga Kisi Roj Main Dil Ki Duniya, Yeh Tera Khat To Nahi Ke Jala Bhi Na Sakun. The pehle hi kayi saanp aasteen mein, ab ek bichchhu bhi pala ja raha hai. अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको, वहाँ पर ढूंढ रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं, मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था, मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं। Ajnabi Khwahishein Seene Mein Daba Bhi Na Sakun, Aise Ziddi Hain Parinde Ke Uda Bhi Na Sakun, Foonk Dalunga Kisi Roj Main Dil Ki Duniya, Yeh Tera Khat To Nahi Ke Jala Bhi Na Sakun. बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर, जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ। Aate Jate Hain Kayi Rang Mere Chehre Par, Log Lete Hain Mazaa Zikr Tumhara Kar Ke.

Next

Rahat Indori Shayari

rahat indori shayari collection in hindi

We have the large collection of Rahat Indori Poetry. Rahat Indori Rahat Indori Shayari in Hindi Log Har Mod Par Ruk Ruk Ke Sambhalte Kyu Hai, Itna Darte Hai To Fir Ghar Se Nikalte Kyu Hai. वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूं मैं सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ ये मेरा हुक्म है हालांकि कुछ नहीं हूं मैं यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूं मैं ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएंगी मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूं मैं — राहत इंदौरी Ban ke ik hadasa bazaar me aa jayega Ban ke ik hadasa bazaar me aa jayega, Jo nahi hoga wo akhbaar me aa jayega, Chor uchkkon ki karo kadr, ki maloom nahi, Kaun, kab, kon si sarkaar me aa jayega सरहदों पर तनाव हे क्या सरहदों पर तनाव हे क्या ज़रा पता तो करो चुनाव हैं क्या शहरों में तो बारूदो का मौसम हैं गाँव चलों अमरूदो का मौसम हैं Sarhadon par tanaav he kya Jara pata to karo chunaav hain kya Shaharon me to baaroodo ka mausam hain Gaonv chalo amroodon ka mausam hain Yahin imaan likhte hai Yahin imaan likhte hai, yahin imaan padhte hain, Hume kuch aur mat padhwao, hum Quran padhte hain, Yahi ke saare manzar hai, yahi ke saare mausam hain, wo andhe hai, jo in aankho me Pakisthan padhte hain ये किसने कह दिया तुमसे ये किसने कह दिया तुमसे इनका बम से रिश्ता है बहुत हैं जख्म सीने में, फकत मरहम से रिश्ता है Botalen Khol Kar To Pi Barson Botalen Khol Kar To Pi Barson Aaj Dil Khol Kar Bhi Pi Jaaye बोतलें खोल कर तो पी बरसों आज दिल खोल कर भी पी जाए Ab hum makaan ke tala lagaane wale hain Ab hum makaan ke tala lagaane wale hain Pata chala hain ki mehaman aane wale hain लहू को रंग जुनूं को कलम बनाने लगे लहू को रंग जुनूं को कलम बनाने लगे हम अपने शहर को शहर-ए-सितम बनाने लगे ये किसने छीन ली बच्चों के हाथ से मिट्टी जो कल खिलौने बनाते थे बम बनाने लगे मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उसका मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उसका इरादा मैंने किया था के छोड़ दूँगा उसे. Rahat Indori Log Har Mod Pe Ruk-Ruk Ke Sambhalate Kyu Hai, Itna Darte Hai To Phir Ghar Se Nikalate Kyu Hai. It's easy to download and install to your mobile phone. Rahat Indori is very well known and loved amongst his millions of fans worldwide for his poetic brilliance and a very peculiar style of rendering mushaira.

Next

Rahat Indori Shayari

rahat indori shayari collection in hindi

जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता, मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता, काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त, फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता। Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere, Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere, Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge, Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere. He did his schooling from Nutan School Indore from where he completed his Higher Secondary. बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर, जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ। Rahat Indori Shayari In Hindi Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere, Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere, Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge, Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere. हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते, जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते, अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है, उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते। Rahat Indori Shayari Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan Kiye Hain, Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain, Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush, Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain. रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है, चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है, रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं, रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है। Use Ab Ke Wafaon Se Gujar Jaane Ki Jaldi Thi, Magar Iss Baar Mujhko Apne Ghar Jaane Ki Jaldi Thi, Main Aakhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta, Yehan Har Ek Mausam Ko Gujar Jaane Ki Jaldi Thi. रोना पड़ता है एक दिन मुस्कुराने के बाद.

Next

Best of Dr Rahat Indori Shayari in Hindi

rahat indori shayari collection in hindi

Prior to this he was a pedagogist of Urdu literature at Indore University. The average rating is 4. Rahat Indori recited his 1 poetry at the age of 19 in his college. उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी, मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी, मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता, यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी। Haath Khali Hain Tere Shehar Se Jaate-Jaate, Jaan Hoti Toh Meri Jaan Lutate Jaate, Ab Toh Har Haath Ka Pathar Humein Pehchanta Hai, Umar Gujri Hai Tere Shehar Mein Aate Jaate. लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे, पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे, उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद, और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे। न हमसफ़र न किसी हमनशीं से निकलेगा न हमसफ़र न किसी हमनशीं से निकलेगा हमारे पांव का कांटा हमीं से निकलेगा मैं जानता था कि ज़हरीला सांप बन बन कर तिरा ख़ुलूस मिरी आस्तीं से निकलेगा इसी गली में वो भूखा फ़क़ीर रहता था तलाश कीजे ख़ज़ाना यहीं से निकलेगा बुज़ुर्ग कहते थे इक वक़्त आएगा जिस दिन जहां पे डूबेगा सूरज वहीं से निकलेगा गुज़िश्ता साल के ज़ख़्मों हरे-भरे रहना जुलूस अब के बरस भी यहीं से निकलेगा जो मेरा दोस्त भी है, मेरा हमनवा भी है जो मेरा दोस्त भी है, मेरा हमनवा भी है वो शख्स, सिर्फ भला ही नहीं, बुरा भी है ये हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था ये हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था में बच भी जाता तो मरने वाला था मेरा नसीब मेरे हाथ कट गए वरना में तेरी मांग में सिन्दूर भरने वाला था Ye haadsaa to kisee din gujarne waalaa tha Me bach bhi jaataa to marne waalaa tha Mera naseeb mere haath kat gaye Warnaa me teri maang me sindoor bharne waalaa tha मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भंवर है जिसकी मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भंवर है जिसकी तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके Ajeeb Log Hain Meri Talash Mein Mujhko, Ajeeb Log Hain Meri Talash Mein Mujhko, Wahan Par Dhoondh Rahe Hain Jahan Nahi Hun Main, Main Aayino Se Toh Mayoos Laut Aaya Hun, Magar Kisi Ne Bataya Bahut Haseen Hun Main. रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है, चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है, रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं, रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है। फ़ैसले लम्हात के नस्लों पे भारी हो गए फ़ैसले लम्हात के नस्लों पे भारी हो गए बाप हाकिम था मगर बेटे भिखारी हो गए देवियां पहुंचीं थीं अपने बाल बिखराए हुए देवता मंदिर से निकले और पुजारी हो गए रौशनी की जंग में तारीकियां पैदा हुईं चांद पागल हो गया तारे भिखारी हो गए रख दिए जाएंगे नेज़े लफ़्ज़ और होंठों के बीच ज़िल्ल-ए-सुब्हानी के अहकामात जारी हो गए नर्म-ओ-नाज़ुक हल्के-फुल्के रूई जैसे ख़्वाब थे आंसुओं में भीगने के बअद भारी हो गए Tufaano se aankh milayon, saelabon pe war karo Tufaano se aankh milayon, saelabon pe war karo Mallaho ka chakkar chodo, taer kar dariya paar karo Phoolon ki dukaane kholo, khushbu ka vyaapar karo Ishq khata hain, to ye khata aek baar nahi, sau baar karo सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे चले चलो की जहाँ तक ये आसमान रहे ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे Safar ki had hain waha tak ki kuch nishaan rahe Chale chalon ki jaha tak ye aasaman rahe Ye kya uthaaye kadam aur aa gayi manjil Maza to tab hain ke paeron mein kuch thakaan rahe Shahr Kya Dekhen Ki Har Manzar Men Jaale Paḍ Gaye Shahr Kya Dekhen Ki Har Manzar Men Jaale Paḍ Gaye Aisi Garmi Hai Ki Piile Phuul Kaale Paḍ Gaye शहर क्या देखें कि हर मंज़र में जाले पड़ गए ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए अभी तो सिर्फ़ परिंदे शुमार करना है अभी तो सिर्फ़ परिंदे शुमार करना है ये फिर बताएँगे किसको शिकार करना है Ye haadsaa to kisee din gujarne waalaa tha Ye haadsaa to kisee din gujarne waalaa tha Me bach bhi jaataa to marne waalaa tha Mera naseeb mere haath kat gaye Warnaa me teri maang me sindoor bharne waalaa tha अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूं अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूं ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूं फूंक डालूंगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया ये तिरा ख़त तो नहीं है कि जिला भी न सकूं मिरी ग़ैरत भी कोई शय है कि महफ़िल में मुझे उस ने इस तरह बुलाया है कि जा भी न सकूं फल तो सब मेरे दरख़्तों के पके हैं लेकिन इतनी कमज़ोर हैं शाख़ें कि हिला भी न सकूं इक न इक रोज़ कहीं ढूंढ ही लूंगा तुझ को ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूं इरादा था कि में कुछ देर तुफानो का मजा लेता इरादा था कि में कुछ देर तुफानो का मजा लेता मगर बेचारे दरिया को उतर जाने की जल्दी थी तू कहाँ गुम है, तेरे रेशमी आँचल की कसम तू कहाँ गुम है, तेरे रेशमी आँचल की कसम, आँसू अब आँख में कँकर की तरह लगता है ।। कभी दिल बन के जो सीने से लगा करता था, अब वही पीठ में खँजर की तरह लगता है ।। रात की गोद में ये सहमा हुआ आधा चाँद, मेरे टुटे हुए सागर की तरह लगता है ।। राहत इँदौरी Tu kahan gum hai tere reshmi aanchal ki kasam Aansu ab aankh main kankar ki tarah lagta hai Kabhi dil banke jo seene se lga karta tha Wahi ab peeth main khanjar ki tarah lagta hai Raat ki godh main ye sehma hua aadha chaand Mere toote huye saagar ki tarah lagta hai उसकी कत्थई आंखों में हैं जंतर मंतर सब उसकी कत्थई आंखों में हैं जंतर मंतर सब चाक़ू वाक़ू, छुरियां वुरियां, ख़ंजर वंजर सब जिस दिन से तुम रूठीं,मुझ से, रूठे रूठे हैं चादर वादर, तकिया वकिया, बिस्तर विस्तर सब मुझसे बिछड़ कर, वह भी कहां अब पहले जैसी है फीके पड़ गए कपड़े वपड़े, ज़ेवर वेवर सब Uski kathai aankho me jantar-mantar sab Chaaku-waaku,chhuri-wuri,khanjar-wanjar sab Jis din se tum ruthi,mujhse ruthe hain Chaadar-waadar,takiya-wakiya,bistar-wistar sab Mujhse bichhar ke wo kahaa pahle jaisi hai Dhile par gaye kapde-wapre,zewar-webar sab Naye kirdaar aaye jaa rahe hain चेहरों की धूप आंखों की गहराई ले गया आईना सारे शहर की बीनाई ले गया डूबे हुए जहाज़ पे क्या तब्सरा करें, ये हादसा तो सोच की गहराई ले गया हालांकि बेज़ुबान था लेकिन अजीब था, जो शख़्स मुझ से छीन के गोयाई ले गया इस वक़्त तो मैं घर से निकलने न पाऊंगा, बस एक कमीज़ थी जो मेरा भाई ले गया झूठे क़सीदे लिखे गये उस की शान में, जो मोतीयों से छीन के सच्चाई ले गया यादों की एक भीड़ मेरे साथ छोड़ कर, क्या जाने वो कहां मेरी तन्हाई ले गया अब असद तुम्हारे लिये कुछ नहीं रहा, गलियों के सारे संग तो सौदाई ले गया अब तो ख़ुद अपनी सांसें भी लगती हैं बोझ सी, उमरों का देव सारी तवनाई ले गया Us Ki Yaad Ayi Hai Sanso Zara Ahista Chalo Us Ki Yaad Ayi Hai Sanso Zara Ahista Chalo Dhadkanon Se Bhi Ibadat Men Khalal Padta Hai उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है मैंने अपनी आँखों से लहू छलका दिया मैंने अपनी आँखों से लहू छलका दिया एक समन्दर कह रहा है मुझे पानी चाहिए नके एक हादसा बाज़ार में आ जायेगा नके एक हादसा बाज़ार में आ जायेगा जो नही होगा वो अखबार में आ जायेगा चोर उच्चकों की करो कद्र, के मालुम नही, कौन कब कौन सी सरकार में आ जाएगा ~डाॅ राहत इंदौरी Ham Se Pahle Bhi Musafir Ka. Rahat Indori Uski Kathayi Aankho Mein Hai Jantar Mantar Sab, Chaku, Waaku, Churiya, Wuriya Sab, Jis Din Se Tum Ruthi, Mujh Se Ruthe Ruthe Hai, Chadar, Wadar, Takiya Wakiya Sab, Mujhse Bichad Ka Weh Bhi Kaha Ab Pehle Jaisi Hai, Fike Pad Gaye Kapde Wapde, Jewar, Vewar Sab.

Next

Rahat Indori Shayri {Hindi} Rahat Indori Shayari

rahat indori shayari collection in hindi

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो, ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो, एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो, दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो। Advertisement Ajeeb Log Hain Meri Talash Mein Mujhko, Wahan Par Dhoondh Rahe Hain Jahan Nahi Hun Main, Main Aayino Se Toh Mayoos Laut Aaya Hun, Magar Kisi Ne Bataya Bahut Haseen Hun Main. जिसको बी चाहते हे तो वो बेवफा हो जाती है! He was quite popular among his students in the university. हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते-जाते, जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते, अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है, उम्र गुजरी है तेरे शहर में आते जाते। Two Line Shayaris Maine Apni Khushk Aankhon Se Lahoo Chalka Diya, Ik Samandar Keh Raha Tha Mujhko Paani Chahiye. बहुत अच्छे से जनता है वो मुझे बहलाने क तरीके, जब चाहा हँसा दिया,जब चाहा रुला दिया…. Masjid Mein Door-Door Koi Dusra Na Tha, Hum Aaj Apne Aap Se Mil Jul Ke Aa Gaye.

Next

हिंदी शायरी (Hindi Shayari)

rahat indori shayari collection in hindi

Rahat Indori is continuously performing in Mushaira and Kavi Sammelan from last 40 - 45 Years. He has been acknowledged with many honors across globe for his work. Apart from all this, he was also brilliant in studies and was excellent in sports too. दिल तो दुखता ही है उसके लिए. People love to read Rahat Indori Poetry. रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है, चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है, रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं, रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है। Use Ab Ke Wafaon Se Gujar Jaane Ki Jaldi Thi, Magar Iss Baar Mujhko Apne Ghar Jaane Ki Jaldi Thi, Main Aakhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta, Yehan Har Ek Mausam Ko Gujar Jaane Ki Jaldi Thi. हमेशा गए मुझे बर्बाद करके.

Next